स्वागत संदेश

छत्तिसगढ़ प्रदेश प्रजापति कुम्हार समाज मे सभी समाज बंधुओ का हार्दिक अभिनंदन हैं, स्वागत हैं| छत्तिसगढ़ प्रदेश प्रजापति कुम्हार समाज मे सभी समाज बंधुओ का हार्दिक अभिनंदन हैं, स्वागत हैं| छत्तिसगढ़ प्रदेश प्रजापति कुम्हार समाज मे सभी समाज बंधुओ का हार्दिक अभिनंदन हैं, स्वागत हैं|

हमारा उद्देश्य

समाज के बिखरे हुए अनगिनत बंधुओ को एक सुत्र मे पिरोने का प्रयास, समाज मे व्याप्त कुरितियो को समूल नष्ट करना, समाज के रचनात्मक गतिविधियो जैसे युवक - युवती परिचय सम्मेलन करना, समाज मे बेटी बचाओ अभियान, सर्व शिक्षा अभियान...

हमारा इतिहास

प्रजापति समाज का जन्म पुराणो के अनुसार श्री ब्रम्‍हा जी के पुत्र महाराजा दक्ष प्रजापति के द्वारा हुआ था| यजुर्वेद के अनुसार श्री दक्ष प्रजापति के ज्ञान से प्रभावित होकर ब्रम्‍हा देव ने उन्हे दक्ष प्रजापति की उपाधि दी, एवम उन्हे समाज और सृष्टि के कल्याण के लिए एक ...

prajapati samaj chhattisgarh

महाराजा दक्ष प्रजापति


प्रजापति समा का जन्म पुराणो के अनुसार श्री ब्रम्‍हा जी के पुत्र महाराजा दक्ष प्रजापति के द्वारा हुआ था| यजुर्वेद के अनुसार श्री दक्ष प्रजापति के ज्ञान से प्रभावित होकर ब्रम्‍हा देव ने उन्हे दक्ष प्रजापति की उपाधि दी, एवम उन्हे समाज और सृष्टि के कल्याण के लिए एक महायज्ञ करने की आदेश दिया, माता सती महाराज दक्ष प्रजापति की पुत्री थी जो महादेव की परम भक्त थी| उनका विवाह महादेव के साथ हुआ, परंतु महाराजा दक्ष को भोले नाथ दामाद के रूप मे स्वीकार नई थे| ब्रम्‍हा जी के आदेशानुसार महाराज दक्ष ने ब्राम्‍हांड मे उपस्थित सभी ऋषि मुनियो, देवी देवताओ, ब्राम्‍हनो को निमंत्रित किया, इस प्रकार उन्होने यज्ञ के लिए एक विशाल मंडप का निर्माण किया |

Design & Developed by Trinity Solutions

Hit Counter